Shri Shankar Shikshayatan

तेजस्वि नावधीतमस्तु   |   Let Our Learning Illuminate Us

Veda Vijnana


Click picture for more illustrations

सृष्टि

विज्ञानचित्रावली में अनेक सुन्दर चित्रों के माध्यम से  वैदिक विज्ञान के विभिन्न पहलुओं का विश्लेषण किया गया है। चित्र देखने में  छोटा लगता है परन्तु वह अनेक महत्त्वपूर्ण विषयों को एक साथ बताता है। इस चित्र में सृष्टि प्रतिपादक जितने पारिभाषिक शब्द आये हैं उनके स्वरूप को यहाँ प्रस्तुत किया जा रहा है।

इस चित्र के दायें भाग में पाँच तत्त्वों का वर्णन है। ये हैं- ब्रह्मा, विष्णु, इन्द्र, अग्नि और सोम। ये पाँचों  तत्त्व अक्षर नाम से जाने जाते हैं। पं. ओझा ने इसे अक्षर कहा है। जिसका कभी नाश नहीं होता है वह अक्षर कहलाता है और जिसका नाश होता है वह क्षर है। इस चित्र के मध्यभाग में क्षर का स्वरूप है। ये क्रमशः क्षर नाम से हैं- प्राण, आप् (जल), वाक्,  अन्नाद (अन्न को खानेवाला) और अन्न । इसी को विकार-क्षर कहा जाता है।

Forthcoming Books

VEDIC CONCEPT OF MAN AND UNIVERSE
English translation of Pandit Motilal Shastri’s Vyakhyana-panchakam 
by RISHI KUMAR MISHRA


Pandit Motilal Shastri was invited by India’s first President, Dr Rajendra Prasad, to give five discourses on vedic vijnana at the Rashtrapati Bhawan on December 14 to December 18, 1956. The  lectures were attended by several well-known scholars and acharyas (teachers) of Veda-shastra. 

Shastriji chose five themes for his discourses, focussing on distinct vidyas or knowledge systems,  all of which offered a unique insight into the mysteries of Creation.  In these discourses, Shastriji has expounded on select vedic terms to reflect upon their deeper meanings which illuminate the mysteries of Creation, and the universe. The lectures were translated in English by Shastriji’s chosen disciple, Rishi Kumar Mishra.

Read this and more books of Pandit Madhusudan Ojha

.

VEDIC SRISHTI PRAKRIYA
Editors: Santosh Kumar Shukla, Lakshmi Kant Vimal, Mani Shankar Dwivedi



Vidyavachaspati Pandit Madhusudan Ojha spent most of his life in understanding, examining and writing on the mysteries of Creation. Of the many books, his ten volumes on the cause and process of Creation merit greater appreciation. The present volume,Vedic Srishti Prakriya, contains the text of Ojhaji’s book, Sanshayataduchhedavada, and various research papers written by scholars invited by Shri Shankar Shikshayatan.

पंडित मोतीलाल शास्त्री की किताबें यहां पढ़ें






     

New Books

Ahoratravada-vimarsha

Ahoratravada is one of the several books authored by Pandit Madhusudan Ojha on the process of Creation. The term `aho-ratra` means day and night. Examining various concepts of creation, Ojhaji chose to dwell at length on the cycle of day and night as the possible cause of Creation. His references include Rigveda’s agamarshan sukta and nasadiya sukta, Bhagavada Gita and Brahdaranyakopanishad. In the book, Ojhaji has dealt with issues like jnana-ajnana, shukla-krishna, prakash-andhakar, bhava-abhava, sristhi-pralaya, rit-satya, yajna and other concepts. 
Editors: Santosh Kumar Shukla, Lakshmi Kant Vimal, Mani Shankar Dwivedi

Featured Book

Bharatavarsha – The India Narrative

Bharatavarsha – The India Narrative is the English translation of an extraordinary work of scholarship in Sanskrit, Indravijayah or `Indra’s Victory`, authored by an equally remarkable Vedic scholar and orator, Pandit Madhusudan Ojha.                  

Bharatavarsha – The India Narrative is the English translation of an extraordinary work of scholarship in Sanskrit, Indravijayah or `Indra’s Victory`, authored by an equally remarkable Vedic scholar and orator, Pandit Madhusudan Ojha.                                                            

Pandit Madhusudan Ojha (1866-1939) was in many senses a pioneering man of words and wisdom, reigniting an interest in study of the Vedas and other pauranic texts at a time when western mode of education had swept aside traditional learning and teaching in India.

Blessed with worthy teachers in Pandit Rajiv Lochan Ojha, his uncle, and Pandit Shiv Kumar Shastri, a renowned Vedic scholar of Kashi, Pandit Ojha recognised that reading and understanding of the Vedas would require re-discovering the meaning and context of the Vedic language, lost due to neglect and disaffection over the centuries. Distortions and misinterpretations had besmirched the true meaning of the Vedic terminologies. These had to be corrected, he realised, to revive a deeper study of the Vedas in India. This became his life’s mission.

A life-long study of the Vedas along with other pauranic texts made Pandit Ojha aware of an exceptional blend of reasoning based on natural principles and introspective insight in these texts. He discovered in the Vedas a living science, Vedic Vijnana, the key to unlock the profound mysteries of Creation and life.

Indravijayah is one of his over 228 volumes written on various aspects of Vedic Vijnana which evidently has survived decades of neglect.  The present volume, translated into English by noted Sanskrit scholar, Prof. Kapil Kapoor, is an endeavour by Shri Shankar Shikshayatan to foreground not only the extraordinary interpretive talent and scholarship of Pandit Madhusudan Ojha but also his remarkable contribution towards reviving interest in the study of the Vedas.

Bharatavarsha – The India Narrative may not capture in entirety the magnificence and depth of knowledge contained in the original work of Pandit Madhusudan Ojha, but it certainly does open a beguiling window to the mysteries of life and creation through the absorbing tale of Indra, a divine personification of a supraphysical energy, and his exploits of courage and dominance.



इंद्रविजय:

भारतवर्ष-द इंडिया नैरेटिव, इंद्रविजय नामक असाधारण कार्य का अंग्रेजी अनुवाद है, जो उल्लेखनीय वैदिक विद्वान और वक्ता, पंडित मधुसूदन ओझा द्वारा लिखित है । पंडित मधुसूदन ओझा (1866-1939) कई अर्थों में शब्दों और ज्ञान के एक अग्रणी व्यक्ति थे, जो वेदों और अन्य पौरानिक ग्रंथों के अध्ययन में रुचि रखते थे, ऐसे समय में जब शिक्षा के पश्चिमी मोड ने भारत में पारंपरिक शिक्षा और शिक्षण को अलग कर दिया था । पंडित राजीव लोचन ओझा, उनके चाचा, और काशी के एक प्रसिद्ध वैदिक विद्वान पंडित शिव कुमार शास्त्री में योग्य शिक्षकों के साथ धन्य पंडित ओझा ने माना कि वेदों को पढ़ने और समझने के लिए वैदिक भाषा के अर्थ और संदर्भ की फिर से खोज करने की आवश्यकता होगी, जो सदियों से उपेक्षा और असंतोष के कारण खो गई थी । विकृतियों और गलत व्याख्याओं ने वैदिक शब्दावली के सही अर्थ को घेर लिया था । उन्होंने महसूस किया कि भारत में वेदों के गहन अध्ययन को पुनर्जीवित करने के लिए इन्हें सुधारना होगा । यह उनके जीवन का मिशन बन गया ।अन्य पौरणिक ग्रंथों के साथ वेदों के जीवन भर के अध्ययन ने पंडित ओझा को इन ग्रंथों में प्राकृतिक सिद्धांतों और आत्मनिरीक्षण अंतर्दृष्टि पर आधारित तर्क के एक असाधारण मिश्रण से अवगत कराया । उन्होंने वेदों में एक जीवित विज्ञान, वैदिक विज्ञान, सृजन और जीवन के गहन रहस्यों को स्पष्ट करने की कुंजी की खोज की । इंद्रविजय वैदिक विज्ञान के विभिन्न पहलुओं पर लिखे गए उनके 228 से अधिक खंडों में से एक है, जो स्पष्ट रूप से दशकों की उपेक्षा से बच गया है । प्रसिद्ध संस्कृत विद्वान, प्रो.कपिल कपूर द्वारा अंग्रेजी में अनुवादित वर्तमान खंड, श्री शंकर शिक्षायतन द्वारा पंडित मधुसूदन ओझा की असाधारण व्याख्यात्मक प्रतिभा और विद्धवता को अग्र करने का एक प्रयास है, बल्कि वेदों के अध्ययन में रुचि को पुनर्जीवित करने में उनके उल्लेखनीय योगदान को भी रेखांकित करता है । भारतवर्ष-द इंडिया नैरेटिव वेदों के अध्ययन में रुचि को पुनर्जीवित करने की दिशा में उनके उल्लेखनीय योगदान को महत्वपूर्ण रूप से रेखांकित करता है ।

Vedic Discussion / वैदिकविमर्श

National Seminar on Indravijayah–Bharatavarsha Narrative

Indravijayah is an important work on vedic science by Vidyavachaspati Pandit Madhusudan Ojha. In this book, Ojhaji has explained the meaning of the name Bharatavarsha and its geographical and historical context. Shri Shankar Shankar has translated this work into English, Bharatavarsha–The India Narrative. This year, the institute proposes to hold monthly discussions on various aspects of this important work of Pandit Madhusudan Ojha. The first seminar held on January 31, 2024 focuses on the meaning of Bharatavarsha as illuminated by Ojhaji. Read full report

राष्ट्रीय संगोष्ठी : इन्द्रविजय : भारतवर्ष आख्यान-विमर्श 

विद्यावाचस्पति पण्डित मधुसूदन ओझा ने वैदिक विज्ञान को उद्घाटित करने के लिए अनेक ग्रन्थों का प्रणयन किया है। उनके द्वारा प्रणीत ग्रन्थों में ‘इन्द्रविजय’ नामक ग्रन्थ का महत्त्वपूर्ण स्थान है। इस ग्रन्थ में पं. ओझाजी ने विविध वैदिक एवं पौराणिक उद्धरणों को प्रस्तुत करते हुए भारतवर्ष के ऐतिहासिक एवं भौगोलिक स्वरूप का प्रामाणिक विवेचन प्रस्तुत किया है।  श्रीशंकर शिक्षायतन वर्ष 2024 के अपने ऑनलाईन मासिक संगोष्ठी कार्यक्रम के अन्तर्गत ओझाजी के ‘इन्द्रविजय’ नामक ग्रन्थ को आधार बनाकर इस वर्ष इन्द्रविजय : भारतवर्ष आख्यान-विमर्श नामक एक विशिष्ट शृंखला का शुभारम्भ हुआ। जिसके अन्तर्गत प्रत्येक महीने एक ऑनलाईन संगोष्ठी समायोजित की जायेगी जिसमें इस ग्रन्थ के प्रत्येक विषय पर इस विषय के विशेषज्ञ विद्वानों द्वारा विस्तृत विचार-विमर्श किया जायेगा।  प्रस्तुत संगोष्ठी इस विमर्शशृंखला के अन्तर्गत समायोजित होने वाली प्रथम संगोष्ठी है जो इन्द्रविजय के भारतपरिचय नामक प्रथम प्रक्रम के कुछ बिन्दुओं को आधार बनाकर समायोजित की जा रही है। पूर्ण विवरण यहाँ पढ़े

Previous Vedic Discussion Reports

Annual Lectures / वार्षिकव्याख्यान

Pandit Madhusudan Ojha’s Contribution to Vedic Thought
September 28,2023

Acharya Jwalant Kumar Shastri

Pandit Madhusudan Ojha was a profound scholar in the tradition of veda vijnana, said well-known vedic scholar, Acharya Jawalant Kumar Shastri during his lecture at Pandit Motilal Shastri Memorial Lecture 2023 on September 28,2023. The annual lecture is organised by Shri Shankar Shikshayatan to honour Pandit Motilal Shastri. The topic of the lecture was Pandit Madhusudan Ojha’s Contribution to Vedic Thought. Read the report

पण्डित मधुसूदन ओझा का वैदिक चिन्तन में योगदान

आचार्य ज्वलन्त कुमार शास्त्री

ओझा जी ने वेदार्थ निरूपण के लिए वैदिक पारिभाषिक शब्दों को प्रधान माना। पं. ओझा जी के अनुसार जब तक इन पारिभाषिक शब्दों का अर्थबोध स्पष्ट नहीं हो जाता है तब तक वेदार्थ स्पष्ट नहीं हो सकता है। पं. ओझा जी के यज्ञविज्ञान का अधार यजुर्वेद है। यजुर्वेद में ४० अध्याय हैं। इन ४० अध्यायों के प्रथम २० अध्यायों में यज्ञ के क्रमानुसार मन्त्र का उपस्थापन है। यज्ञ ही इस सृष्टि का मूल है, ऐसा पं. ओझा जी ने प्रतिपादित किया है। प्रख्यात वैदिक विद्वान् आचार्य ज्वलन्त कुमार शास्त्री ने ‘पण्डित मधुसूदन ओझा का वैदिक चिन्तन में योगदान’ विषय पर यह स्मारक व्याख्यान प्रस्तुत किया ।आगे पढ़े

Previous Annual Lecture reports