Brahmavinaya

In this volume, Pandit Madhusudan Ojha has explained the concept of chatushpad Brahma. Given here are four aspects —paratpar,  avyaya, akshara and kshkara. However, Ojhaji has included an additional aspect which he called nirvishesh, considered even higher than paratpar.
 

ब्रह्मविनय--पं. मधुसूदन ओझाजी का ब्रह्मविषयक सिद्धान्त चतुष्पाद् ब्रह्म की सत्ता पर निर्भर है । ये चतुष्पाद हैं- परात्पर, अव्यय, अक्षर एवं क्षर । दार्शनिक दृष्टि से परात्पर के भी उपर  एक पाँचवा निर्विशेष को माना गया है । ओझाजी ने इन्हीं पाँच की व्याख्या हेतु इस ग्रन्थ की रचना की है । सम्प्रति उपलब्ध संस्करण में निर्विशेषानुवाक्, परात्परानुवाक्, अव्ययानुवाक् एवं अक्षरानुवाक् नामक कुल चार प्रकरण ही प्राप्त होते हैं । (Download)