Gita Vijnana-bhashya by Pandit Motilal Shastri

Gita-shastra-rahasya
Gita-nama-rahasya
Brahma-karma-rahasya
Atma-pariksha
Jnanayoga-pariksha
Buddhi-yoga-pariksha      1 &2   
Bhakti-yoga-pariksha 1 & 2
Gita-vijnana-bhashya-bhumika-1
Gita-vijnana-bhashya-bhumika  2 KHA & GA
Rajarshividya 1 & 2 & 3 

                                                                   

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        

 

 

Gita-shastra-rahasya
गीता-शास्त्र-रहस्य  --download

Gita-nama-rahasya
गीता-नाम-रहस्य      -download 

 


Brahma-karma-rahasya 
ब्रह्म-कर्म-रहस्य

This is part of Pandit Motilal Shastri's volumes on Gitavijnana-bhashya. Here he has explained the meaning and context of `atma` and its two components, `jnana` and `karma`. The atma knows and does and the entire world is dependent on these two aspects. The `jnana` part of atma is Brahma. It is termed as amrit in Bhagvad Gita. The term `karma` is referred to as `mrityu` or death.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                               

पण्डित मोतीलाल शास्त्री ने ब्रह्म-कर्म नामक लघुग्रन्थ में इन दो तत्त्वों को विवेचित किया है। यह ग्रन्थ भी गीताविज्ञान भाष्य का ही भाग है। शास्त्री जी के अनुसार आत्मा में हमेशा दो भावों की सत्ता होती हैं। वे हैं-ज्ञान और कर्म। आत्मा जानता है और करता है। सारा संसार जानना और करना इन दो धर्मों से युक्त है। न आत्मा शुद्ध ज्ञानमय है, न आत्मा शुद्ध कर् मय है अपितु उभयात्मक है। जो ज्ञान भाग है- वह ब्रह्म कहलाता है। वही गीता में अमृत शब्द से व्यवहृत किया गया है। एवं कर्म मृत्यु शब्द से कहा गया है। इस प्रकार आत्मप्रजापति का आधाभाग अमृत है और आधा भाग मर्त्य है। दोनों की समष्टि आत्मा है। आत्मा ब्रह्मकर्ममय है । इसका प्रतिपादन शतपथब्राह्मण में मिलता है-

                                             अर्द्धं ह वै प्रजापतेरात्मनो मर्त्यमासीदर्द्धममृतम्। शत. ब्रा. १०.१.३.२

 

ब्रह्मभाग के रूप में अव्यय, अक्षर, क्षर का वर्णन तथा कर्म के विविध आयामों का वर्णन इस ग्रन्थ में किया गया है।  -download 
                                                                   

Atma-pariksha
आत्मपरीक्षा       -download 


Jnanayoga-pariksha
ज्ञान-योग-परीक्षा   -download


Buddhi-yoga-pariksha      1 &2   
बुद्धि-योग-परीक्षा     1 -download / 2  download



Bhakti-yoga-pariksha 1 & 2
भक्ति-योग-परीक्षा-   1 -download / 2. download                                                                    


Gita-vijnana-bhashya-bhumika-1
गीता-विज्ञान-भाष्य-भूमिका  -download 


Gita-vijnana-bhashya-bhumika  2 KHA & GA
गीता-विज्ञान-भाष्य-भूमिका   
--download /     --download


Rajarshividya 1 & 2 & 3
राजर्षिविद्या        1 --download   / 2 -- download / 3 --download