Aithihasikoadhyaya

Aithihasikoadhyaya is part of Pandit Motilal Shastri's Gitavijnana-bhashya. In this compact volume, Shastriji has described the epic battle between the Kauravas and Pandavas in a vivid explanation of the word, Kurukshetra. He has given meaning to adhidavik Kurukshetra, svargiya Kurukshetra and Bharatvarshaiya Kurukshetra.                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                     

 

ऐतिहासिकोऽध्याय

ऐतिहासिकोऽध्याय भी गीताविज्ञानभाष्य का ही अंश है। इस लघुग्रन्थ में मूलरूप से कुरुक्षेत्र शब्द को आधार मान कर कौरव-पाण्डव के युद्ध का वर्णन है। विशेषरूप से इस ग्रन्थ में आधिदैविक कुरुक्षेत्र, स्वर्गीय कुरुक्षेत्र और भारतवर्षीय कुरुक्षेत्र का वर्णन किया गया है। आधिदैविक कुरुक्षेत्र- सूर्य को केन्द्र में रख कर इसके चारों ओर क्रान्तिवृत्त के आधार पर भूपिण्ड घूमता है। क्रान्तिवृत्तावच्छिन्न सौरमण्डल ही कुरुक्षेत्र है। स्वर्गीय कुरुक्षेत्र- जिस प्रकार प्रकृति में ब्रह्मा-इन्द्र-विष्णु के विष्टप हैं उसी प्रकार यहाँ भी तीनों विष्टपों की कल्पना की गयी थी। प्राङ्मेरू (पामीर) से उत्तर का भूभाग उस युग का द्युलोक था। आज जो प्रान्त रूस नाम से प्रसिद्ध है, वह उस युग में स्वर्ग था। यहाँ यज्ञविद्या के प्रथम प्रवर्तक भौमदेवता निवास करते थे। इन देवताओं ने उसी प्रदेश में तीनों विष्टपों के मध्य में यज्ञभूमि बनायी थी। इस यज्ञ भूमि में देवता यज्ञ किया करते थे। अतएव यह प्रदेश कुरुक्षेत्र नाम से प्रसिद्ध हुआ।


भारतवर्षीय कुरुक्षेत्र- हस्तिनापुर से पश्चिम का सारा प्रदेश सुप्रसिद्ध कुरुक्षेत्र है। यहाँ सरस्वती नामक नदी है जो आगे जाकार टीले में लुप्त होकर फिर निकली है, अतएव इसे लुप्ता सरस्वती भी कहा जाता है। भरतवर्ष की जिस पवित्र भूमि में ब्रह्मादि देवताओं ने यज्ञ किया, वही भूमि रजर्षि कुरु के हल चलाने से कुरुक्षेत्र नाम से प्रसिद्ध हुई।  --download