Khyati Granth

Atri-Khyati
Devasura Khyati
Madhav-Khyati

 Pandit Madhusudan Ojha has extensively documented various terms appearing in the Vedic texts. These terms include brahma, dharma, yajna, itihas and vedanga. He categorised these books into four—yajna, vijnana, itihas and prakirna. (miscellaneous). Devasurkhyati forms part of his work on itihasa (history). In this work, he has explained the origin of Veda, dharma, praja, trailokya (triple worlds) and loka etc,.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                 

देवासुरख्याति --ओझाजी द्वारा लिखित पंचविध ग्रन्थविभागों में से पुराणसमीक्षा नामक ग्रन्थविभाग के अन्तर्गत इतिहासविषयक पाँच ख्यातिपरक ग्रन्थों का प्रणयन किया गया जिसमें यह देवासुरख्याति भी एक है। इस ग्रन्थ में वेदसृष्टि, धर्मसृष्टि, प्रजासृष्टि, त्रैलोक्यनिरूपण, लोकसृष्टि एवं चातुर्वर्ण्य विषयक विवेचन किया गया है ।

 

 

This book forms part of Pandit Madhusudan Ojha’s examination of the Puranas. In this work, he has given a detailed account of Yaduvanshi clan and its rulers.

 

माधवख्याति --पुराणसमीक्षा ग्रन्थविभाग के अन्तर्गत निर्मित इस माधवख्याति नामक ग्रन्थ में यदुवंश का समग्र विवरण प्रस्तुत किया गया है । ग्रन्थ के अन्त में दी गयी अनुक्रमणिका में यदुवंशीय राजाओं की सूची भी दी गयी है । 

Atri-Khyati --download                                                                                                                                                                                                                  
Devasura Khyati--download
Madhav-Khyati--download