National Webinar on Vyomavada

Report of discussion on Pandit Madhusudan Ojha's Vyomavada.


                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        

 

व्योमवाद ग्रन्थ में सृष्टि की उत्पत्ति के सिद्धान्त  को उद्घाटित  किया गया है। ५० कारिकाओं में निबद्ध यह ग्रन्थ अत्यन्त ही सरल ढङ्ग से सृष्टिविषयक व्योमवाद के सिद्धान्त का विश्लेषण करता है। इस ग्रन्थ का प्रारम्भ व्योमवाद अधिकार अथवा प्रवाहणविद्या के प्रतिपादन से होता है। यह ग्रन्थ कुल तीन कल्पों में विभक्त है। यहाँ कल्प शब्द अध्याय का द्योतक है। प्रथम कल्प का नाम अमृत कल्प है। इस कल्प में चार विषयों को समाहित किया गया है-अद्वैतवाद, कार्यविभाग, अण्डविभाग एवं व्योमव्युत्पत्ति। द्वितीय कल्प का नाम ‘अपां कल्प’ है । इसमें चार तत्त्वों का विश्लेषण किया गया है-अभ्वविभाग, लोकविभाग, भूतविभाग और गतिविभाग। तृतीय कल्प का नाम ‘ज्योतिर्नाम कल्प’ है। इसमें वेदविभाग और इन्द्रविवेक है।
 

व्योमवादविमर्श विषयक राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का प्रतिवेदन यहाँ प्रस्तुत है 

 

Watch the videos of all the presentations here