National Webinar on Ambhovada

ambhovada

 

Read the report on the Ambhovada webinar.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              

On August 28, 2021, Shri Shankar Shikshayatan organised eighth webinar in the series of discussions on Pandit Madhudusan Ojha’s works on Creation. The theme of the focus this time was Ambhovada, one of Ojhaji’s twelve books on Creation, based primarily on the nadakiya sukta of the Rigveda. Ojhaji marshalled his deep study of the Vedas, Puranas and other granthas (texts) to examine key questions that have puzzled humankind for ages. 

 

Read the full report here

See the recording of the webinar on our Youtube channel here

See pictures of the Webinar here

 

 

प्रतिवेदन

श्री शंकर शिक्षायतन, नई दिल्ली द्वारा दिनांक २८अगस्त २०२१ को अम्भोवादविमर्शविषयक वैदिकविज्ञानवेब संगोष्ठी का समायोजन किया गया। पं.मधुसूदन ओझा प्रणीत सृष्टिविषयक वादग्रन्थविमर्श शृंखला के अन्तर्गत समायोजित हो रहे इस वर्ष का यह आठवां कार्यक्रम था जोपं. मधुसूदन ओझाजी के सृष्टि प्रतिपादक ग्रन्थ ‘अम्भोवाद’ को आधार बनाकर समायोजित किया गया था । कार्यक्रम के प्रारम्भ में अपने आरम्भिक वक्तव्यमेंश्री शंकर शिक्षायतन के समन्वयक तथा संस्कृत एवं प्राच्यविद्या अध्ययन संस्थान के संकायप्रमुख प्रो. सन्तोष कुमार शुक्ल ने कहा कि श्वेताश्वतरोपनिषद् में सृष्टि की उत्पत्ति विषयक सिद्धान्त का स्पष्ट उल्लेख मिलता है। वहाँ काल, स्वभाव, नियति, यदृच्छा, भूत और पुरुष का जगत् के कारण के रूप में वर्णन मिलता है-पूर्ण विवरण यहाँ पढ़े 

 

 

यहाँ देखें संगोष्ठी का पूर्ण वीडियो रिकॉर्डिंग 

यहाँ देखें संगोष्ठी की तस्वीरें