Brahmavijnana

Brahmavijnana is the only work of Pandit Madhusudan Ojha which  is originally written in Hindi. It is a text of his discourse on Brahma. Brahmavijnana is about all the subjects related to Brahma. Here, Ojhaji has explained in simple terms the meaning of prana or life-force. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         ब्रह्मविज्ञान ओझा जी का एक मात्र ग्रन्थ है जो हिन्दी भाषा में है। यद्यपि यह ग्रन्थ ओझा जी के व्याख्यान का लिखित रूप है। ब्रह्मविज्ञान का अर्थ है ब्रह्म सम्बन्धी         विषयों का स्पष्टीकरण। इस ग्रन्थ में मंगलाचरण, प्रतिज्ञा, सदसद्वादविकल्प सप्तविकल्पसूत्र, मूलोपनिषद्, संशयोपनिषद्, असत्योपनिषद्, विशिष्ट-         त्रिसत्योपनिषद्, शुक्ल-त्रिसत्योपनिषद्, परात्पर आत्मसूत्र, सत्यत्रयसूत्र, योगरूढ़ यैगिकरूढ़, यज्ञ, व्यूहानव्यूह परिच्छेद, आत्मपरिच्छेद और आत्मगति परिच्छेद        हैं। इन शीर्षकों के अन्तर्गत अनेक उपशीर्षक भी हैं। ओझा जी के इस ग्रन्थ में प्राण को सहजतापूर्वक समझाया गया है।

       
(१) प्राण ‘कुर्वद्रूप’ अर्थात् प्रतिक्षण क्रियाशील है। जगत् में जो कुछ जहाँ क्रिया होती है वह सब प्राण का ही रूप है। प्राण एक स्थान से दूसरे स्थान में जब सम्बन्ध  करता है तो उस वस्तु में कम्पन होता है उसी को क्रिया कहते हैं। सभी क्रियाओं का यही उपादान है।


(२) यद्यपि भारतीय दार्शनिकों ने प्राण को वायु माना है और वायु का स्पर्श होता है। परन्तु ओझा जी वायु और प्राण को पृथक् मानते हैं। प्राण में धारण की शक्ति  है। परन्तु उसका बोध नहीं होता।


(३) प्राण भूतमात्रा के बिना कभी कहीं भी नहीं रहता। प्रत्युत इसी स्वभाव के कारण यह प्राण ‘वाक्’ में में रहकर अपने विधरण धर्म से प्रतिक्षण घन बनता रहता            है। ओझा जी के अनुसार प्राण चार प्रकार के हैं- (क)परोजा प्राण जिससे त्रैलोक्य सृष्टि में सभी पदार्थ विधरण के कारण अपने-अपने स्थान पर नियत रूप से                रहते  हैं।(ख) आग्नेय प्राण जो विशकलन करने का स्वभाव रखता है।(ग) सौम्य प्राण जो घन करने का स्वभाव रखता है। (घ)आप्य प्राण जो रूपान्तर में बदलने            का स्वभाव रखता है।

 (४) प्राण और भूत पृथक् पृथक् स्थान नहीं रखते। प्राणमय भूत या भूतमय प्राण ही देखने में आते हैं।

 (५) यद्यपि मन किसी वस्तु का संग नहीं करता किन्तु प्राण, संग करने की अधिक शक्ति रखता है। अतः वह अपनी शक्ति से मन को अपने में बाँध लेता है।     

(६) प्राण स्वयं बिना मन के कोई भी व्यापार नहीं करता।

(७) प्राण कभी सोता नहीं है सर्वदा काम करता रहता है इसी को अप्रसुप्ति कहते हैं।

(८) प्राण कभी नहीं थकता और न कभी विश्रांअ चाहता है।

(९) प्राण एक वस्तु से दूसरी वस्तु में चला जाता है।

(१०) चलते चलते रुक जाता है और फिर चलता है। चलना ठहरना मेढक जैसी चाल है।


 इस प्रकार ओझा जी ने प्राण और वायु में जो भेद किया है वह विचारणीय। प्राणविद्या का प्रयोग होता है। पञ्चप्राण या पञ्चवायु में प्राण प्रथम है अपान इत्यादि है।

--download