Vijnanachitravali--I & II

Vinjana-chitravali ( illustrated science of Veda)  is a collection of illustrations and charts drawn by Pandit Madhusudan Ojha and Pandit Motilal Shastri in their many works. This volume is edited by Shastriji. These illustrations and drawings have been drawn from Shatapatha Brahmana, Gitavijnana-bhashya, Ishopanishath, Sradhvijnana and other works. Every illustration carries a clear explanation of their meaning (in Hindi) andd their importance.                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           

 

विज्ञानचित्रावली  में शतपथब्राह्मण, गीताविज्ञानभाष्यभूमिका, ईशोपनिषत्, छान्दोग्योपनिषद्, श्राद्धविज्ञान, संस्कृत एवं सभ्यता नामक ग्रन्थ में प्रयुक्त चित्रों का संग्रह है।   इसमें अच्छे- अच्छे चित्र बने हुए हैं। जिसमें यजमानपात्री, पत्नीपात्री, इडापात्री, ब्रह्मचमसः, प्राशित्रहरणम्, अन्तर्धानकटम् अदि हैं। प्रत्येक चित्र के नीचे उसका हिन्दी में अर्थ  और उसकी उपयोगिता का वर्णन है। 

प्राशित्रहरणम्- खदिरकाष्ठ से निर्मित गाय के कान के आकार का चार अङ्गुल माप के दण्डवाला होता है। इससे प्राशित्र-यज्ञ के ब्रह्मा को दिए जाने वाले हवन करने से बचे हवि का भाग का हरण होता है। अतः इस व्युत्पत्ति के कारण इसे प्राशित्रहरणम् कहा गया है।


 ब्रह्मचमसः- यह नयग्रोध वृक्ष से प्राप्त काष्ठ से अरत्नि माप का बनता था उपर्युक्त आकार‘ चतुरस्त्त्रोऽल्पदण्डो ब्रह्मचमसः चौकोर छोटे पकड़(दण्ड) वाले चमस का है।  होतृचमस, प्रशास्तृचमस, ब्राह्मणाच्छंसिचमस, अच्छावाकचमस, आग्नीध्रीयचमस  आदि होते थे और अपने- अपने आकार भेद से पहचाने जाते थे।


 यह चित्रावली आज के सन्दर्भ में विशेष महात्त्व का है क्योंकि यज्ञ के प्राचीन अपरिचित यज्ञीयपात्रों का चित्र इस में उपलब्ध है।

Part I --download

Part IIdownload