राष्ट्रीय संगोष्ठी : शारीरकविमर्श (भाग-६)

प्रतिवेदन

श्रीशंकर शिक्षायतन वैदिक शोध संस्थान, नई दिल्ली द्वारा समायोजित शारीरकविमर्श (भाग-६)
नामक राष्ट्रीय संगोष्ठी का समायोजन ३० सितम्बर २०२३ को सायंकाल अन्तर्जालीय माध्यम से किया गया ।
यह संगोष्ठी पं. मधुसूदन ओझा प्रणीत शारीरकविमर्श नमक ग्रन्थ के १३वें प्रकरण को आधार बना कर
समायोजित हुई थी । इस प्रकरण में आत्मा के सात संस्थाओं का विवेचन किया गया है। ये संस्थाएँ हैं-
निर्विशेष, परात्पर, पुरुष, सत्य, यज्ञ, विराट् और विश्व । इनमें निर्विशेष, परात्पर और पुरुष ये तीन आत्मा के
निर्गुण स्वरूप हैं। शेष चार सत्य, यज्ञ, विराट् और विश्व ये आत्मा के सगुण स्वरूप हैं। निर्गुण की परिभाषा में
ग्रन्थकार ने ‘आश्रितधर्म’ शब्द का प्रयोग किया है। जैसे- नदी में सूर्य का प्रतिबिम्ब पड़ता है। सूर्य के प्रतिबिम्ब
का आश्रय नदी है। नदी के जल में जो धर्म है वह आश्रितधर्म कहलाता है। अर्थात् यदि नदी का जल स्थिर है तो
सूर्य का प्रतिबिम्ब स्थिर होगा। नदी का जल यदि गतिशील होगा तो सूर्य का प्रतिबिम्ब भी गतिशील होगा। सूर्य
अपने स्थान पर स्थिर है । जो तत्त्व आश्रित धर्म को स्वीकार नहीं करता है वह निधर्मक या निर्गुण कहलाता है।
(‘आश्रितधर्मापरिग्रहान्निर्धर्मको निर्गुणः।’, शारीरकविमर्श, पृ.२३१) निर्विशेष, परात्पर और पुरुष इन तीनों के अन्य
नाम भी शास्त्र में प्रयुक्त हुए हैं। ये हैं- गूढोत्मा, परमात्मा, निष्क्रिय, असङ्गः, विभु, अव्यावृत्तरूप। (‘स एष
त्रिविधोऽपि गूढोत्मा परमात्मा निष्क्रियोऽसङ्गो विभुरव्यावृत्तरूपः।’,वही) इसी को शुद्ध स्वरूप कहते हैं। आत्मा या
ब्रह्म के शुद्धस्वरूप में सृष्टि नहीं होती है। जब शुद्ध स्वरूप सृष्टि के लिए माया से संपर्क ग्रहण करता है तब सगुण
कहलाता है। जिस में सभी प्रकार के धर्म रह सकते हैं, वह सगुण कहलाता है। (‘अथ सर्वधर्मोपपन्नः सगुणः।’,वही)
ब्रह्मसूत्र के ‘सर्वधर्मोपपत्तेश्च’ (२.१.३७) सूत्र के अनुसार एक ही ब्रह्म तत्त्व एक स्थिति में निर्गुण रहता है तो
दूसरे स्थिति में सगुण हो जाता है। पण्डित मधुसूदन ओझा जी ने आत्मा के जिन सात संस्थाओं का विवेचन
किया है, वे अधोलिखित हैं-
 निर्विशेष : ब्रह्म का ही दूसरा नाम रस है। जो विशुद्ध रसमात्र है और जो सीमित नहीं है, वह निर्विशेष
कहलाता है। शुद्ध शब्द को इस प्रकार समझना चाहिए। जैसे- शुद्ध आँटा से रोटी नहीं बन सकती है।
उस आँटा में पानी और अग्नि का संयोग होने पर ही रोटी बन सकती है। (‘विशुद्धरसमात्रोऽसीमः।’,
शारीरकविमर्श पृ. २३२)

2
 परात्पर : ब्रह्म का ही दूसरा नाम परात्पर भी है। इस परात्पर में सभी शक्तियों से युक्त अनन्त बल तत्त्व
रहता है और यह भी सीमा रहित है। (सर्वविधानन्तबलोपेतोऽसीमः।’,वही)
 पुरुष : माया नामक बल तत्त्व के संबन्ध से पुरुष तत्त्व सीमित हो जाता है। यह पुरुष सोलह कलाओं
वाला हो जाता है। ५ अव्ययपुरुष की कला, ५ अक्षर पुरुष की कला और ५ क्षर पुरुष की कला ये तीनों
मिलकर १५ हो जाते हैं। सोलहवां तत्त्व स्वयं पुरुष है। (‘मायाबलावच्छेदात् सीमितः षोडशकलः।’ ,वही)
 सत्य : आत्मा, प्राण और पशु इन तीन तत्त्वों से सत्य तीन स्वरूप वाला है। इन तीनों तत्त्वों के क्रमशः
ज्ञान, कर्म और अर्थ ये तीन नाम हैं। अर्थ से आत्मा आदि वस्तु का बोध होता है। (‘आत्मप्राणपशुभिर्स्त्रिपर्वा
प्रजापतिर्ज्ञानकर्मार्थैस्त्रितन्त्रः।’,वही)
 यज्ञ : अन्न, अन्नाद और आवपन से प्रजापति तीन स्वरूप वाले हो जाते हैं। जिस को जीव खाता है, वह
अन्न है । जो अन्न को खाने वाला है, वह अन्नाद कहलाता है और जिस स्थान पर बीज को, अन्न को
डाला जाता है, वह स्थान आवपन है। यज्ञ की प्रक्रिया में अग्नि में हवि डाला जाता है। अग्नि को अन्नाद
एवं चावल, घी, तिल, यव आदि अन्न है। जिस स्थान पर यह प्रक्रिया होती है वह आवपन है। यही यज्ञ
की प्रक्रिया है। (‘अन्नान्नादावपनैस्त्रिपर्वा प्रजापतिः।’,वही)


 विराट् : दस प्रकार की प्राणाग्नि में दस प्रकार की आहुति के यज्ञ से उत्पन्न यज्ञ-महिमा से युक्त विराट्
कहलाता है। (‘दशविधप्राणाग्नौ दशविधप्राणाहुतियज्ञजो यज्ञमहिमोपेतः।’,वही)

 विश्व : पाप स्वरूप अञ्जन और आवरण से रहित आत्मप्रकाश वाला विश्व है। जिस वस्तु का मनुष्य लेप
लगाता है, वह अञ्जन कहलाता है। नारी आँख में जो काजल लगाती है, वह अञ्जन कहलाता है। कपड़ा
आदि से किसी वस्तु को ढकना आवरण कहलाता है। इन अञ्जन और आवरण से रहित आत्मज्योति तत्त्व
ही विश्व कहलाता है। (‘पाप्मलक्षणाञ्जनावरणान्निरस्तात्मज्योतिः।’ ,वही)

इस प्रकार संपूर्ण प्रकरण में इन संस्थाओं के माध्यम से आत्मा के विविध पक्षों को प्रदर्शित किया गया है।
कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में व्याख्यान करते हुए प्रो. मधुसूदन पेन्ना, संकायाध्यक्ष, भारतीय धर्म,
दर्शन एवं संस्कृति संकाय, कविकुलगुरु कालिदास संस्कृत विश्वविद्यालय, रामटेक, महाराष्ट्र ने अपने व्याख्यान
में अद्वैतवेदान्त की दृष्टि आत्मा की विविध संस्थाओं का विवेचन किया। उन्होंने कहा कि निर्विशेष में जो विशेष
शब्द है, वह विकार अर्थ वाला है। माण्डूक्यकारिका में इस का सन्दर्भ प्राप्त होता है। ‘निर्गताः विशेषाः यस्मात्,
स निर्विशेषः’ जिस से विकार दूर चला गया है, वह निर्विशेष है। ब्रह्म में पहले विकार था फिर वह निर्विकार
हुआ, ऐसा अर्थ नहीं समझना चाहिए । प्रक्रिया के प्रदर्शन के लिए यह व्युत्पत्ति की जाती है। उन्होंने शैवागम के
पञ्चकञ्चुक का उल्लेख किया । पञ्चकञ्चुक से विशिष्ट शुद्ध तत्त्व शिव है। इसी सिद्धान्त को दृष्टि में रखते हुए
ग्रन्थकार ने इन सात संस्थाओं का वर्णन किया है।

द्वितीय वक्ता के रूप में वक्तव्य देते हुए डॉ. विनय पी., विभागाध्यक्ष, वेदान्त विभाग, कर्नाटक संस्कृत
विश्वविद्यालय, बेंगलुरु ने कहा कि ब्रह्ममीमांसा ही शारीरकमीमांसा है। यहाँ ग्रन्थकार ने स्पष्ट लिखा है कि
आत्मा का अर्थ ही ब्रह्म है। ब्रह्म तत्त्व क्या है, इसके लिए श्रुति को उद्धृत करते हुए लिखा है कि जहाँ से यह
सृष्टि उत्पन्न हुई है, जहाँ यह सृष्टि रहती है और जिस में यह सृष्टि विलीन हो जाती है, वह ब्रह्म है। वही ब्रह्म
सभी का आत्मा है (‘आत्मा ब्रह्म निरुच्यते। यतो वा इमानि भूतानि जायने, येन जातानि जीवन्ति, यत्
प्रयन्त्यभिसंविसन्ति तद् ब्रह्म’। स आत्मा सर्वेषाम्।’,शारीरकविमर्श, पृ.२३१
)

3
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्रीशंकर शिक्षायतन के समन्वयक एवं संस्कृत-प्राच्यविद्याध्ययन
संस्थान, जे.एन.यू. के आचार्य प्रो. सन्तोष कुमार शुक्ल ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि शारीरकविमर्श में
ग्रन्थकार ने इसका निर्देश दिया है कि शास्त्र ब्रह्म में निर्गुण और सगुण के भेद से परस्पर विरोध प्रतीत होता है।
अनन्त सृष्टि का मूल कारण ब्रह्म है। विशुद्ध आत्मब्रह्म के तटस्थलक्षण से ब्रह्म की संस्था भेद होती है। ये सात
संस्था ही नानात्व के कारण हैं। ब्रह्म का बृंहण करना स्वभाव है। एक ही तत्त्व अनेक हो गया, ऐसा महर्षि कहते
हैं। (‘एकं वा इदं विबभूव सर्वम् इत्याह भगवान् महर्षिः।’ शारीरकविमर्श, पृ. २१७) विकृत बीज से उत्पत्ति होती है।
परन्तु ब्रह्म अविकृत रूप में सृष्टि करता है। बृंहण ही ब्रह्म है। (‘विकृताद् वृक्षबीजादङ्कुरोत्पत्तिर्दृश्यते। तत्र
त्वविकृतादेव बीजादुत्पत्तिस्तदिदं बृंहणं नाम। तदिदं बृंहणं यत्रोपपद्यते तद् ब्रह्म।’, वही, पृ. २१८)
कार्यक्रम का प्रारंभ डॉ. अनयमणि त्रिपाठी, सहायकाचार्य, वेद विभाग, केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय,
रणवीर परिसर, जम्मू द्वारा प्रस्तुत वैदिक मंगलाचरण से तथा समापन वैदिक शान्तिपाठ से हुआ। संगोष्ठी का
सञ्चालन श्रीशंकर शिक्षायतन वैदिक शोध संस्थान के शोध अधिकारी डॉ. मणि शंकर द्विवेदी ने तथा धन्यवाद
ज्ञापन डॉ. लक्ष्मीकान्त विमल ने किया। देश के विविध विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों एवं अन्य शैक्षणिक
संस्थानों के आचार्यों एवं शोधछात्रों ने इस संगोष्ठी में सहभागिता कर इस